Induced AI का काम क्या है?

AI

गूगल को चौंका देने वाले चैट जीपीटी के सीईओ सैम ऑल्टमैन ने दो भारतीय उद्यमियों को उनके AI स्टार्टअप के लिए भारी राशि दी है। ये दो उद्यमी हैं भारत के 19 वर्षीय आर्यन शर्मा और उनका साथी आयुष, जिन्होंने अपने Induced AI स्टार्टअप में निवेश के लिए सैम को राजी किया है। इसके लिए उन्हें ओपन एआई के सीईओ से मिलने के लिए बहुत मेहनत करनी पड़ी और वे सैन फ्रांसिस्को तक जाकर उनसे बात कर पाए।जब आर्यन शर्मा सैन फ्रांसिस्को में सैम ऑल्टमैन से मुलाकात करने पहुंचे तो उन्होंने अपने आप को कंपनी की सचिव के रूप में परिचय दिया। उन्होंने सैम को अपने AI स्टार्टअप Induced AI की विशेषताओं के बारे में बताया। उस मुलाकात के बाद से सैम और आर्यन का संवाद जारी रहा। अपने स्टार्टअप, Induced AI को फंडिंग दिलाने के लिए आर्यन ने सैम से फिर से बात की और उन्हें 23 लाख डॉलर (लगभग 19 करोड़ रुपए) का इन्वेस्टमेंट मिला। यह इन्वेस्टमेंट सैम ने अन्य इन्वेस्टर्स के साथ मिलकर किया है। इन्वेस्टर्स की सूची आप वेबसाइट पर देख सकते हैं.

Induced AI का काम क्या है?

Induced AI एक ऐसा ब्राउजर है जो AI एजेंट की मदद से आपके किसी भी काम को आसानी से कर सकता है। कंपनी का कहना है कि यह ब्राउजर आपके काम को स्वचालित कर देगा और आपको कम परेशानी होगी। वेबसाइट पर बताया गया है कि आप अपने काम को वीडियो के जरिए भी रिकॉर्ड करके AI टूल को सिखा सकते हैं।

जब आप AI टूल को अपना काम सिखाते हैं, तो वह आपके सभी काम को करने में आपकी मदद करेगा और आपके साथ डेटा को भी साझा करेगा। इसका मतलब है कि आपको अपना काम खुद नहीं करना पड़ेगा, बल्कि AI एजेंट आपके लिए करेगा और आपको काम की बोझ से छुटकारा मिलेगा। इस टूल में आपको बॉट को पहचानने, कैप्चा को हल करने, सुरक्षित रूप से पहुंचने जैसी सुविधाएं भी मिलेंगी।

अभी Induced AI सभी के लिए उपलब्ध नहीं है। यदि आप इस टूल का उपयोग करना चाहते हैं, तो आप वेटलिस्ट में शामिल हो सकते हैं।